मध्यप्रदेश में उगाया जा रहा 2.7 लाख रुपय किलो बिकने वाला मियाज़ाकी आम

मियाज़ाकी आम (Miyazaki Mango) मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में एक खास किस्म के आम की पैदावार की गई है आम की यह किस्म मूलतः जापान में पाई जाती है जापान में इसे “Taiyo-no-Tamago” या “eggs of Sunshine” के नाम से भी जाना जाता है.

जापान के चार मुख्य द्वीपो में से एक kyushu द्वीप में मौजूद मियाज़ाकी शहर में इस आम को लगभग 1984 से उगाया जा रहा है और इसी शहर के नाम पर इस किस्म का नाम मियाज़ाकी रखा गया है.

जापान के अलावा इसकी खेती थाईलैंड और फिलीपींस यहां तक की बांग्लादेश में भी की जाती है जिसमे अब भारत का नाम भी जुड़ गया है 

अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस मियाज़ाकी किस्म के 350 ग्राम के दो आमो की कीमत 2.7 लाख रुपय बताई जा रही है तो इस हिसाब से अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में 1 किलो आम की कीमत लगभग 3.8 लाख रुपय तक हो सकती है 

जापानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह आम दुनिया का सबसे महंगा आम है पिछले 6 सालों से अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस आम की कीमत लाखों रुपय तक बताई जा रही है

मियाज़ाकी आम के खास व कीमती होने की वजह 

  • इस आम का वजन कम से कम 350 ग्राम होना चाहिए 
  • इसमें शुगर की मात्रा अन्य किस्मो से 15% अधिक होती है 
  • यह आम देखने में लाल रंग का होता है 
  • इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट, बीटा-कैरोटीन और फोलिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं
  • यह आंखों में थकान व कमजोर नजर वालों के लिए बहुत लाभदायक माना जाता है
  • कैंसर के जोखिम को कम करता है
  • स्किन के लिए बहुत लाभदायक है
  • कोलेस्ट्रोल को कम करता है

यह आम स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है इसका प्रयोग दवाइयो के रूप में होता है इस कारण इसकी मांग अधिक है 

उपरोक्त सभी गुणवत्ता को मानक मानकर इसकी कीमत तय की जाती है जो की 2 आम के एक बॉक्स के लिए 8600 रूपये से लेकर 2.7 लाख रूपये तक हो सकती है और सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले आमो को ही एक्सपोर्ट किया जाता है जिसे “eggs of The Sun” कहा जाता है   

the egg of sun
Image By Kopytko Alexey

जापान में मियाज़ाकी आम की कीमत

जापान में मियाज़ाकी आम की कीमत का अंदाज़ा हम (Amazon japan) की मदद ले सकते है

मियाज़ाकी आम के पौधे का बीज कहां से खरीदें

जापान बांग्लादेश फिलीपींस की कुछ नर्सरी मियाज़ाकी आम के बीज व पौधे उपलब्ध करवाती है और अब तो भारत में भी कुछ नर्सरीइसके पौधे उपलब्ध करवा रही है जिसे आप निचे दी गयी या की अन्य विश्वसनीय website से online order व बुकिंग करवा सकते है।
indiamart.com, alhabibnursery.com, satvai.com
किसी से भी इस प्रकार के पौधे खरीदने के पूर्व बीज व पौधे की विश्वसनीयता व गुणवत्ता जान लेना जरूरी है

मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में मियाज़ाकी आम

जबलपुर जिले के रहने वाले संकल्प परिहार ने इस आम के दो पौधे कुछ वर्ष पूर्व अपने पहले से मौजूद आम के बगीचे में लगाये थे संकल्प परिहार के अनुसार कुछ वर्ष पूर्व जब वे ट्रेन में अपनी पत्नी रानी परिहार के साथ चेन्नई की ओर जा रहे थे तभी ट्रेन में एक व्यक्ति उनके संपर्क में आया और उसने आम के दो बीज उन्हें दिए और उनसे कहा कि बिल्कुल बच्चों की तरह इन आम के पौधों की देखभाल कीजियेगा, एक दिन यह आपको अच्छा रिटर्न देगे.

उस समय परिहार जी इस किस्म के बारे में नहीं जानते थे परन्तु उन्होंने इसे प्रयोग के रूप में लगाने का सोचा, और बाद में उन्हें पता चला की यह मियाज़ाकी आम है.

जब मियाज़ाकी आम के पेड़ों में फल आए तो आस पास के इलाके में इसकी खबर फेल गयी और कुछ लोगों ने इसे चुराने की कोशिश की जिसके कारण उन्होंने 4 गार्ड व 6 कुत्तों की व्यवस्था आम के पेड़ों की सुरक्षा के लिए कि जिससे कि कोई उन्हें चुरा ना सके.

परिहार दंपत्ति ने मियाज़ाकी आम का नाम अपनी माताजी “दामिनी” के नाम पर रखा है संकल्प परिहार जी का कहना है कि कई राज्यों से उनके पास आम को क्रय करने के लिए प्रस्ताव आ रहे हैं

मुंबई के एक ज्वेलरी व्यापारी मियाज़ाकी के एक आम के लिए ₹21000 तक देने को तैयार हैं, अभी वह इस आम के बीजों से और पौधे उगाना चाहते है इसलिए वह अभी इसे नहीं बेच रहे.

मियाज़ाकी आम की पैदावार के तरीके 

मियाज़ाकी आम की पैदावार आमतौर पर अप्रैल से अगस्त के मध्य की जा सकती है
इसकी पैदावार के लिए मुख्यतः

  • पर्याप्त मात्रा में खुला वातावरण
  • सूर्य का प्रकाश
  • वर्षा की उपलब्धता
  • वातावरण में आर्द्रता

उपरोक्त प्रकार के उचित वातावरण के साथ-साथ अच्छी प्रकार से बगीचे की देख-रेख की जाए तो इसकी पैदावार की जा सकती है यदि आम की टेस्टिंग व चेकिंग के दौरान यह क्वालिटी में उत्तम गुणवत्ता का होता है तो इसे “The Egg of Sun” भी कहा जाता है और तभी इसे एक्सपोर्ट किया जा सकता है

भारत में अन्य महंगे आमो की किस्में

भारत में पैदावार की जाने वाली आम की अन्य कीमती किसमें है जो कि इस प्रकार है

  • कोहितुर : कोहितुर पूर्व भारत का सबसे महंगा आम है यह भारत के पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद क्षेत्र में लगाया जाता है और इस किस्म के एक आम की कीमत 1500 रुपए तक है भारत में कोहितूर आम की पैदावार 18वीं शताब्दी में की गई और यह भी मान्यता है कि इसे कट करने के लिए हाथी के दांत का प्रयोग किया जाता है
  • नूरजहां : भारत के मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिले में नूरजहां किस्म के आम की पैदावार होती है इस किस्म के एक आम की कीमत 500 से 1000 रूपये तक होती है.

दुनिया का सबसे महंगा आम

टॉप एंड मैंगो को दुनिया का सबसे कीमती आम मन जाता है यह साउथ ईस्ट एशिया में उत्पादित किया जाता है और गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में यह किस्म सबसे महंगी बिकने वाली आम की किस्म के रूप में दर्ज की गई है क्योंकि इस किस्म के 16 मैंगो की एक ट्रे को 15 लाख रुपए में एक चैरिटी शो के दौरान विक्रय किया गया था.

आपको ये पढना चाहिए
Share It:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *