Meaning of Namaste, जानिये नमस्ते करने का सही तरीका, अर्थ और फायदे।

What is Namaste Meaning:- नमस्ते “नमस्कार” भारतीय संस्कृति का प्रतीक है, जो दुनियाभर में भारत की पहचान बन चूका है और विदेशो में नमस्कर करने का चलन बढ़ता जा रहा है।
आइए जानिये नमस्ते करने का सही तरीका, अर्थ और फायदे।

Namaste Meaning

नमस्ते करने का वैज्ञानिक कारण (Scientific reason to do Namaste)

पश्चिम सभ्यता के प्रभाव से भारत में हाथ मिलाने (Hand-shake) का प्रचलन बढ़ता जा रहा है ।

दूसरे शब्दों में विज्ञान के अनुसार यह उचित नहीं है क्योकि हाथ में अनेक प्रकार की संक्रामक बीमारियो के वायरस अथवा बैक्टेरिया जैसे (Corona-virus) हो सकते हैं जो हाथ मिलाने से आदान-प्रदान हो जाते है।

नमस्ते करने का सांस्कृतिक कारण

भारतीय मान्यता के अनुसार हाथ मिलाने से अपने शरीर की संचित शक्ति दूसरे में प्रवेश कर जाती है। इस कारण से शरीर में कमजोरी महसूस हो सकती है। प्राचीन काल से ही गुरुजन अपने शिष्यों के सिर पर हाथ रखकर ‘शक्तिपात’ करते आ रहे है अर्थात् बिना बताये उन्हें शक्ति प्रदान करते है।

Meaning of Namaste

नमस्ते संस्कृत भाषा का शब्द है
जो की ‘नमः’ और ‘ते’ शब्दों को मिला के बनता है।
नमः + ते = नमस्ते
“नमः’ का अर्थ होता है
(संज्ञा) noun= धनुष, पालन, ‘आराधना’।
(क्रिया) verb=झुकना, प्रणाम या नमस्कार करना, मानना।
और
‘ते’ का अर्थ है ‘आप’।
अर्थात्

नमस्ते = में आपको झुक कर सम्मान करता हूं।

नमस्ते करने का सही तरीका

हथेलियों को जोड़ते हुए + सिर झुकाकर + “नमस्कार” कह कर सम्बोधित करना सम्मान देने का एक सही तरीका है।

What is the difference between “Pranaam” and “Namaste”? प्रणाम और नमस्ते में क्या अंतर है?

नमस्ते अभिवादन करने का एक सामान्य तरीका है, लेकिन जब आप अपनी पूरी श्रद्धा, समर्पण के साथ किसी को सम्मान देते हैं तो हम उसे प्रणाम करना कहेगे। हाला की दोनों ही तरीको में मुद्रा(posture) सामान ही रहेगी।

निष्कर्ष के तौर पर हम यह कह सकते हे की नमस्ते “नमस्कार” करना वैज्ञानिक द्रस्टी के साथ लोगो से आदर एवं सम्मान पूर्वक मिलने का एक सही तरीका हैं।

Noise Pollution के बारे में कूछ रोचक तथ्य।

आपको ये पढना चाहिए
Share It:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *